ममता बनर्जी भाजपा के बढ़ते जनाधार से डर गईं : अमित शाह

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्य मंत्री और तृणमूल कांग्रेस की नेत्री ममता बनर्जी पर आरोप लगाया कि वह भाजपा के बढ़ते जनाधार से डर गईं हैं।

अमित शाह ने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोक सभा चुनाव की तैयारियों के लिए भाजपा ने यात्राओं का आयोजन किया था लेकिन बार-बार परमिशन मांगे जाने के बावजूद तृणमूल सरकार ने डर से कार्यक्रम को नहीं होने दिया।

भाजपा मुख्यालय में शुक्रवार को आयोजित प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि ये यात्राएं इसी महीने 7, 9 और 14 दिसंबर को शुरू होने वाली थी ।

शाह ने कहा कि ममता बनर्जी जितना जोर लगाना चाहें, लगा लें लेकिन ये तीनों यात्राएं होकर रहेगी।

File photo

‘‘मैं स्वयं इन यात्राओं की शुरुआत करने पश्चिम बंगाल जाउँगा। ये यात्राएँ पश्चिम बंगाल के गाँव.गाँव में जायेगी और तृणमूल सरकार के गैर.लोकतांत्रिक रवैये के खिलाफ जनता को जागृत करने का काम करेगी।’’

अमित शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को मैं सलाह देना चाहता हूँ कि आप भारतीय जनता पार्टी की इन यात्राओं को रोक कर पश्चिम बंगाल की जनता की भावनाओं का दमन नहीं कर सकती क्योंकि पश्चिम बंगाल की जनता परिवर्तन के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता ममता बनर्जी और तृणमूल सरकार के दमन चक्र से नहीं डरते। हम पश्चिम बंगाल में सुशासन और वर्तमान स्थिति में बदलाव लाने के लिए कटिबद्ध हैं।

अमित शाह ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से पूछना चाहता हूँ कि तृणमूल समर्थित कार्यकर्ताओं के हमले में शहीद हमारे तीन कार्यकर्ताओं त्रिलोचन महतो, दुलाल कुमार और जगन्नाथ टुंडू की निर्मम हत्या के मामलों का वर्तमान स्टेटस क्या है, इन मामलों में क्या प्रगति हुई है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पंचायत चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के प्रदर्शन से ममता बनर्जी की नींद उड़ी हुई है, इसलिए भारतीय जनता पार्टी से डर कर उन्होंने इन यात्राओं को परमिशन न देकर रोकने का कार्य किया है।

शाह ने आरोप लगाया कि जहां तक क़ानून-व्यवस्था का सवाल है ;  शिक्षा, खनन, बंदरगाह, हर जगह माफियाओं ने कब्जा कर रखा है और तृणमूल कांग्रेस सरकार के मंत्री इन माफियाओं को पनाह दे रहे हैं। पश्चिम बंगाल में आज हर जगह जगाई-मधाई दिखाई दे रहे हैं।

’उन्होंने कहा ‘पश्चिम बंगाल की क्राइम रेट अन्य राज्यों की तुलना में काफी आगे है। महिलाओं के खिलाफ अपराध चरम पर है। राजनीतिक हत्याओं में पश्चिम बंगाल विगत कई वर्षों से अग्रिम राज्यों में रहा है।’

Print Friendly, PDF & Email