‘ग्रामोदय से भारत उदय’ अभियान की शुरुआत

इंदौर, 14 अप्रैल | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को मध्यप्रदेश के इंदौर जिले स्थित महू पहुंचे। संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर की जन्मस्थली से उन्होंने ‘ग्रामोदय से भारत उदय’ अभियान की शुरुआत की। यह अभियान 24 अप्रैल तक चलेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने अंबेडकर स्मारक पर श्रद्धासुमन अर्पित करने के बाद सैनिक मैदान में आयोजित सभा में कहा कि डॉ. अंबेडकर एक व्यक्ति नहीं, बल्कि संकल्प का दूसरा नाम थे। बाबा साहब जीवन जीते नहीं थे, बल्कि जीवन को संघर्ष में जोड़ और जोत देते थे।

फोटोः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 14 अप्रैल, 2016 को मध्यप्रदेश के महू में ‘ग्राम उदय से भारत उदय अभियान’ की शुरूआत करते हुए। साथ में हैं केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और अन्य गणमान्य व्यक्ति।

उन्होंने आगे कहा कि बाबा साहब अपने मान-सम्मान के लिए नहीं, बल्कि समाज की बुराइयों के खिलाफ लड़े। समाज में आखिरी छोर पर बैठे दलितों, शोषितों को बराबरी का हक और सम्मान दिलाने के लिए वह संघर्ष करते रहे और इसके लिए उन्हें अपमानित भी होना पड़ा, मगर वह अपने मार्ग से कभी विचलित नहीं हुए।

डॉ. अंबेडकर की शिक्षा और योग्यता का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिस महापुरुष के पास इतनी बड़ी ज्ञान संपदा हो, विश्व की गणमान्य विश्वविद्यालयों की डिग्रियां हों, जिस कालखंड में कुछ लेने और पाने के अवसर भरे पड़े हों, मगर अपने लिए कुछ लेने के बजाय उन्होंने गरीबों, शोषितों के हक के लिए इन सारे अवसरों को छोड़कर अपने को इस देश की मिट्टी में खपा दिया।

प्रधानमंत्री मोदी मुंबई से वायुसेना के विशेष विमान से इंदौर पहुंचे। इंदौर हवाईअड्डे पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अन्य अधिकारियों के साथ प्रधानमंत्री की अगवानी की। उसके बाद मोदी हेलीकॉप्टर से महू पहुंचे।

मोदी ने अंबेडकर स्मारक स्थल पर पहुंचकर डॉ. अंबेडकर की प्रतिमा पर पुष्प की माला अर्पित की। उसके बाद वह उस कमरे में भी गए, जहां एक पालना रखा हुआ है। परंपरा निभाते हुए मोदी ने इस पालना को हिलाया। इसके अलावा डॉ. अंबेडकर के जीवन पर आधारित चित्र-प्रदर्शनी भी उन्होंने देखी।

डॉ. अंबेडकर की 125वीं जयंती के मौके पर उनकी जन्मस्थली महू में बने स्मारक पर गुरुवार की सुबह से ही बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। यहां पहुंचे रहे लोग डॉ. अंबेडकर को श्रद्धासुमन अर्पित कर उन्हें याद कर रहे हैं।

आयोजन को सफल बनाने के लिए विशेष इंतजाम किए गए। महू के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बलों की तैनाती है।

(आईएएनएस)

Print Friendly, PDF & Email