ISRO Chairman Dr K Sivan

दिसंबर 2021 तक अंतरिक्ष में पहला मानवयुक्त यान भेजने की योजना

भारत दिसंबर 2021 तक बाहरी  अंतरिक्ष में पहला मानवयुक्त अंतरिक्ष यान भेजने की योजना पर काम कर रहा है। अंतरिक्षयात्रियों  (एस्‍ट्रोनॉट) के चयन  और प्रशिक्षण के लिए इंडियन एयरफोर्स और रुस का सहयोग लिया जा रहा है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ISRO ने शुक्रवार को कहा कि वह दिसंबर 2021 तक गगनयान मानव मिशन को बाहरी अंतरिक्ष में लॉन्च करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए तैयार है।

इसरो के अध्‍यक्ष डॉक्‍टर के सिवन ने बंगलूरू में बताया कि इस अभियान के लिए तीन अंतरिक्ष यात्रियों को सात दिन के लिए बाह्य अंतरिक्ष में भेजने की योजना है।

उन्होने यह भी जानकारी दी कि  इस वर्ष विभिन्न प्रकार के 332 प्रक्षेपणों की योजना है। जीसैट -20 उपग्रह उच्च बैंडविड्थ कनेक्टिविटी के लिए सितंबर-अक्टूबर में लॉन्च किया जाएगा।

आकाशवाणी के अनुसार अप्रैल में भारत विश्‍व का पहला राष्‍ट्र बन जाएगाजिसने चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव में रोवर यंत्र उतारा। छह चक्र वाला रोवर चंद्रमा के परत पर चलते हुए यहां की मिट्टी की जानकारी वैज्ञानिकों को दे पाएगा। इसरो द्वारा लिए जाने वाले प्रमुख योजनाओं में गगनयान एक है।

इसरो टीवी चैनल को अगले 3-4 महीने में लॉन्च किया जाएगा। नए उद्यम शुरू करने में स्टार्टअप्स की मदद के लिए इसरो देश भर में 6 इन्क्युबेटर केंद्र भी स्थापित करेगा।

Photo :The Chairman, ISRO, Dr. K. Sivan addressing the media on Department of Space related issues, in Bengaluru on January 11, 2019. 

Print Friendly, PDF & Email