German Deligation

जर्मन प्रतिनिधिमण्डल ने भारत में निवेश का कोई बड़ा वादा नहीं किया

जर्मनी से आए प्रतिनिधिमण्डल के समक्ष सोमवार को भारत की ओर से विभिन्न क्षेत्रों में  निवेश की अपेक्षा की गई किन्तु प्रत्युत्तर में जर्मनी की ओर से कोई निवेश करने का बड़ा  वादा नहीं किया गया।

इससे पहले वाणिज्‍य एवं उद्योग राज्‍य मंत्री सीआर चौधरी ने भारत में इन्वेस्ट करने की सुनहरी तस्वीर बताते हुए प्रतिनिधिमण्डल से कहा कि स्‍मार्ट सिटी तैयार करने तथा हवाई अड्डों के निर्माण के क्षेत्र में भारत में निवेश के काफी अच्छे अवसर है।

नई दिल्‍ली में सोमवार को वाणिज्‍य एवं उद्योग राज्‍य मंत्री सीआर चौधरी ने ये बातें जर्मनी के आर्थिक कार्य, डिजिटलाइजेशन और ऊर्जा मंत्री डॉ. एंड्रीस पिंकवार्ट के नेतृत्‍व में भारत आए एक उच्‍च स्‍तरीय जर्मन प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के अवसर पर कही।

उन्होंने जर्मन प्रतिनिधितण्डल को जानकारी दी कि  देश में हवाई अड्डे की संख्‍या 2025 तक बढ़कर 400 हो जायेगी। 100 स्‍मार्ट सिटी को तैयार करने तथा हवाई अड्डों का निर्माण करने के लिए भारत में निवेश के काफी अवसर है।

इसके उत्तर में जर्मनी के प्रतिनिधिमंडल ने भारत के आर्थिक और औद्योगिक विकास में और भी अधिक जानकारी पाने की इच्‍छा व्‍यक्‍त की।

जानकार सूत्रों का कहना है कि मंत्री के प्रस्ताव का जवाब देने के बजाय उल्टे जर्मनी के मंत्री ने  भारत से यह उम्मीद जताई कि भारत की कम्पनियां अपना और अधिक कारोबार जर्मनी में करें।

जर्मनी में अभी 80 भारतीय कम्पनियां अपना कारोबार कर रही हैं।

जर्मनी के मंत्री ने कहा कि जर्मनी यह आशा करता है कि जर्मनी में और भी अधिक संख्‍या में भारतीय कंपनियां स्‍थापित हों।

जर्मनी के मंत्री और उनके प्रतिनिधिमंडल ने भारत की स्‍टार्टअप इकोसिस्‍टम और जर्मनी के नार्थ राइन वेस्‍टफलिया के बीच सहयोग के उपायों के बारे में भी चर्चा की।

 

Print Friendly, PDF & Email