Vasundhara Raje

कृष्णा कुमारी ममता एवं त्याग की प्रतिमूर्ति थीं

Late Krishna Kumari

Rajmata Krishna Kumari in 1971

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि पूर्व सांसद श्रीमती कृष्णा कुमारी ममता एवं त्याग की प्रतिमूर्ति थीं। उन्होंने नारी शिक्षा और महिला उत्थान की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य किए तथा सांसद के रूप में भी उन्होंने क्षेत्र के विकास में अहम योगदान दिया।

मुख्यमंत्री  गुरूवार को जोधपुर पहुंचीं तथा उम्मेद भवन में पूर्व सांसद श्रीमती कृष्णा कुमारी के उठावणा कार्यक्रम में सम्मिलित हुईं।

मारवाड़ की राजमाता और पूर्व सांसद कृष्णा कुमारी का 3 जुलाई को 92 वर्ष की आयु में जोधपुर में देहांत हो गया था। वह जोधपुर के पूर्व महाराजा हनवंत सिंह की धर्म पत्नी थीं।

वह पांचवीं लोकसभा की सदस्य थीं। उनका जन्म 10 फरवरी,1926 को गुजरात के ध्रांगध्रा राजघराने में हुआ था। वह 1971 में लोकसभा के लिए चुनी गईं थी।

श्रीमती राजे ने स्वर्गीय कृष्णा कुमारी के चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। उन्होंने स्व. कृष्णा कुमारी के पुत्र एवं पूर्व सांसद गजसिंह] श्रीमती हेमलता राजे] पूर्व पोलो खिलाड़ी शिवराज सिंह] पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्रीमती चन्द्रेश कुमारी] श्रीमती शैलेश कुमारी] श्रीमती गायत्री राजे तथा अन्य परिजनों से मिलकर संवेदनाएं व्यक्त की।

 

 

Print Friendly, PDF & Email