Flood,Yogi ji

योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया

उत्तर प्रदेश में बारिश के चलते सामान्य जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है और पिछले 24 घंटों में 17 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे किया।

प्रदेश के ताराई क्षेत्र के कई जिलों में भारी बारिश और नेपाल से आ रहे पानी के चलते बाढ़ के प्रकोप का सामना करना पड़ रहा है।

कर्नागंज और जिले के ताराबगंज तहसील में कई गांव बाढ़ की भीषण चपेट में हैं। बलुई तटबंध में दरारों से आने से 12 गांवों में पानी भी गया है। सोनभद्र जिले में एनडीआरएफ टीमों को बुलाया गया है।

योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को ताराई क्षेत्र के लखीमपुर खीरी जिले में बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया जहां शारदा नदी ने निचले इलाकों में भारी विनाश पैदा किया।

मुख्यमंत्री को बताया गया कि लखीमपुर जनपद के रेहरिया कला गांव की स्थिति दो नदियों के मध्य है जिससे वह गांव कटान से ज्यादा प्रभावित होता है। इस पर सांसद अजय मिश्र टेनी ने कहा कि उस गांव की कटान का एक बड़ा कारण मिट्टी की प्रकृति भी है।

विधायक पालिया रोमी साहनी ने जंगल नंबर 7 नामक ग्राम का उल्लेख करते हुए बताया गांव अत्यधिक कटान से प्रभावित थे जिससे वहां अधिक काम किए जाने की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि अविलंब आवश्यक कार्रवाई की जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि बाढ़ पीड़ितों को 24 घंटे के भीतर राहत पहुंचाई जानी चाहिए। अगस्त-सितंबर के महीने में
बरसात बहुत अधिक रहती है इसलिए अधिकारियों को सतर्क रहने की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री शारदा बैराज में 20 मिनट से अधिक समय तक रहे और बाढ़ पीड़ितों से भी मुलाकात की।

उन्होंने अधिकारियों को बचाव और राहत कार्यों को तेज करने और बाढ़ प्रभावित लोगों और उनके पशुओं के लिए खाद्य और जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

मुख्यमंत्री अभी गोंडा जिले के कुरनेलगंज तहसील गए जहां बाढ़ के कारण एक लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। यहां घाघरा ने पुराने एल्गिन.चारसादी तटबंध के चारों ओर अस्थायी तटबंध का एक बड़ा हिस्सा नष्ट कर दिया।

 

Print Friendly, PDF & Email