Modi

नेताजी द्वारा स्थापित आज़ाद हिंद सरकार की 75वीं वर्षगांठ मनाई गई

नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा स्थापित आज़ाद हिंद सरकार की 75वीं वर्षगांठ मनाई गई। आजाद हिंद सरकार की स्थापना 21 अक्टूबर, 1943 को सिगापुर में की गई थी।

नेताजी  द्वारा स्थापित आज़ाद हिंद सरकार के गठन की 75वीं वर्षगांठ की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम में रविवार को लाल किले पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि विघ्वंसकारी शक्तियां देश के बाहर और अंदर से हमारी स्वतंत्रता, एकता और संविधान पर प्रहार कर रही हैं।

उन्होंने कहा कि भारत के प्रत्येक निवासी का कर्तव्य है कि वह नेताजी से प्रेरित होकर उन शक्तियों को परास्त कर देश के विकास में योगदान दे।

नेताजी के नेतृत्व में आज़ाद हिंद सरकार के गठन की 75वीं वर्षगांठ की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम में रविवार को लाल किले पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

उन्होंने कहा कि आजाद हिंद सरकार राष्ट्र निर्माण में सक्रिय रूप से शामिल थी, यहां तक ​​कि उसने अपने बैंक, मुद्रा और टिकट भी शुरू कर दिये थे। इस सरकार का अपना गुप्तचर तंत्र भी था।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के योगदान का स्मरण करते हुए उन्होंने कहा कि नेताजी एक दूरदर्शी व्यक्ति थे, जिन्होंने शक्तिशाली औपनिवेशिक ब्रिटिश शासन के विरुद्ध लड़ने के लिए भारतीयों को एकजुट किया।

नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमारी सैन्य ताकत हमेशा से आत्मरक्षा के लिए रही है और आगे भी रहेगी। हमें कभी किसी दूसरे की भूमि का लालच नहीं रहा, लेकिन भारत की संप्रभुता के लिए जो भी चुनौती बनेगा, उसको दोगुनी ताकत से जवाब मिलेगा।

कांग्रेस का नाम लिए बिना मोदी ने कहा कि  एक परिवार को बड़ा बताने के लिए देश के अनेक सपूतों फिर चाहे वह सरदार पटेल हों, बाबा साहेब आंबेडकर हों, उन्हीं की तरह  नेताजी के योगदान को भी भुलाने का प्रयास किया गया।

Print Friendly, PDF & Email