भारत-चीन टेक्नोलोजी ट्रान्सफर और निवेश सम्मेलन

Chinese

चीन से आए अतिथि

भारत-चीन टेक्नोलोजी के क्षेत्र में एक-दूसरे सहयोग करके विश्व अर्थ व्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने यह बात अपने वीडियो संदेश में कही।

वे गुरूवार को नई दिल्ली के ली मेरिडियन होटल में दो दिवसीय दूसरे भारत-चीन टेक्नोलोजी ट्रान्सफर,  कोलाबोरेटिव इनोवेशन और इनवेस्टमेंट सम्मेलन 2017 का उद्घाटन कर रहे थे।

यह सम्मेलन इण्डिया चाइना ट्रेड सेंटर (आइसीटीसी) ने चीन की युन्नान एकेडेमी आॅफ साइंटिफिक एण्ड टेक्निकल इंफोरमेशन ( यास्ती) के सहयोग आयोजित किया है।

सम्मेलन के विशेष सत्र में प्रोजेक्ट ब्रोशर का लोकार्पण करते हुए केन्द्रीय साइंस एण्ड टेक्नोलाजी तथा अर्थ साइंसेस राज्यमंत्री श्री वाई एस चौधरी ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से दोनों देशों के बीच व्यापार में बढोतरी होगी। भारत और चीन तक्षशिला और नालंदा के समय से ही एक दूसरे के लिए ज्ञान और व्यापार के पार्टनर है और यह पार्टरशिप प्राचीन ऐतिहासिक परंपरा पर टिकी हुई है।

उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच शानदार कूटनीतिक संबंध हैं और इसलिए टेक्नोलोजी ट्रांफर और निवेश में एक-दूसरे को सहयोग करके 21वीं शताब्दी में भारत और चीन सर्वाधिक शक्तिशाली देश बन जाएंगे।

श्री चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किये गए मेक इन इण्डिया, डिजिटल इण्डिया, स्मार्ट सिटी और स्टार्टअप इण्डिया जैसे अनेक कार्यक्रमों के कारण भारत एक तेजी से विकसित होती अर्थ व्यवस्था बन रहा है और इसमें चीन का सहयोग सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए महत्वपूर्ण होगा।

चीन की युन्नान एकेडेमी आॅफ साइंटिफिक एण्ड टेक्निकल इंफोरमेशन (यास्ती) के महानिदेशक हाउ शूक्विएन ने श्री चौधरी को एक बैटरी वाली लालटेन भेंट की। इसकी बैटरी में नमक का पानी डाला जाता है जिससे वह रोशन होती है। उसका एक बल्ब 6 घंटे तक प्रकाश देता है। श्री चौधरी ने इसे भारत के गांवों के लिए उपयोगी बताया। यह लालटेन आगामी तीन महीने बाजार में आजाएगी।

आइसीटीसी के अध्यक्ष श्री राजीव शुक्ला ने अतिथियों का स्वागत करते हुए दोनों देशों से व्यापारिक संभावनाएं तलाशने और ौर इस क्षेत्र में सहयोग पर जोर दिया।

इण्डिया चाइना ट्रेड सेंटर के कार्यकारी अध्यक्ष एवं इण्डिया चाइना टेक्नोलोजी ट्रान्सफर सेंटर के अध्यक्ष श्री वी के मिश्रा ने दोनों देशों के

V K Mishra

वी के मिश्रा

अतिथियों का स्वागत करते हुए उम्मीद जताई कि दोनों देश एक दूसरे के साथ सहयोग और अनुबंध्र करके व्यापार में और तेजी से आगे बढेंगे। उन्होंने चीन की संस्था यास्ती के महानिदेशक श्री मा मिक्सिंग का आभार जताते हुए कहा कि विगत दो सालों में उनके और चीन सरकार के प्रयत्नों से टेक्नोलोजी को आगे बढाने में मदद मिल रही है।

Print Friendly, PDF & Email