Ambassador Luo Zhaohui

चीन के राजदूत ने कहा चीन में बाॅलीवुड फिल्मों को बढ़ावा दे भारत

भारत सरकार चीन में बाॅलीवुड फिल्मों को बढ़ावा दे। यह बात किसी ओर ने नहीं बल्कि चीन के भारत स्थित राजदूत ने कही। ‘जनसमाचार’ का मंतव्य है कि सूचना प्रसारण मंत्रालय को तुरंत पहल करनी चाहिए। इससे भारत में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और फिल्म इण्डस्ट्री को फायदा होगा।

भारत में चीन के राजदूत लुओ झाओहुई ने कहा  ‘‘भारत सरकार योग, आयुर्वेद, बौद्ध धर्म और प्रवासी भारतीय को को बढ़ावा दे रही है। मुझे आश्चर्य है कि बॉलीवुड फिल्म शामिल क्यों नहीं है। चीन में बॉलीवुड फ़िल्में देखना, योगाभ्यास करना और दार्जिलिंग चाय का स्वाद लेना युवाओं में फैशन बन गया है।’’

चीन के राजदूत लुओ झाओहुई  25 जनवरी को हैप्पी स्प्रिंग फेस्टिवल के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में  सीरी फोर्ट सभागार में बोल रहे थे।

इस कार्यक्रम में वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु भी मौजूद थे।

उन्होंने कहा कि  फिल्म दंगल ने भारत की तुलना में चीन में बॉक्स ऑफिस पर बेहतर प्रदर्शन किया।

भारत स्थित चीन के राजदूत ने दो महीने पहले मुम्बई में  अमिताभ बच्चन और आमिर खान के साथ मुलाकात की चर्चा की और कहा कि मैंने मुंबई में बॉलीवुड फिल्म सिटी का दौरा किया और अमिताभ बच्चन और आमिर खान के साथ मुलाकात की। दोनों के चीन में दसियों हजार प्रशंसक हैं।

लुओ झाओहुई ने कहा कि चीन में योग बहुत लोकप्रिय है। चीन योग में एमए की डिग्री जारी करने वाला भारत से बाहर एकमात्र देश है। बेशक, चीन में दुनिया की सबसे बड़ी बौद्ध आबादी है। दुनिया में 550 मिलियन बौद्ध हैं और उनमें से लगभग आधे चीन में हैं। ज़ुआन ज़ंग और बोधिधर्म दोनों देशों में बहुत लोकप्रिय हैं।

उन्होंने कहा कि  चीनी चंद्र नव वर्ष – वसंत महोत्सव मनाने और मेरे साथ जुड़ने के लिए आप सभी का स्वागत है। इसकी शुरुआत 11 दिन बाद 5 फरवरी को होगी।

लुओ झाओहुई ने कहा कि गुजरता वर्ष पवित्र कुत्ते का वर्ष होता है। आने वाला साल गोल्डन पिग का है। सुअर का अर्थ है भाग्य, भाग्य और समृद्धि। मैं चाहता हूं कि दुनिया भर के लोग सुअर के वर्ष का आनंद ले सकें, और एक समृद्ध जीवन जी सकें।

उन्होंने  भारतीय नागरिकों को गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं दी।

चीन के राजदूत ने कहा कि  वैश्विक स्थिति में जबरदस्त बदलाव आया है। चीन और भारत, दो सबसे बड़े विकासशील देशों के रूप में, उल्लेखनीय आर्थिक विकास बनाए हुए हैं। चीन ने अभी-अभी रिफॉर्म एंड ओपनिंग-अप की 40 वीं वर्षगांठ मनाई। हमारी कुल जीडीपी अब लगभग 13.6 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर है, प्रति व्यक्ति जीडीपी लगभग 9,800 अमेरिकी डॉलर है।

वर्ष 2018 चीन-भारत संबंधों के इतिहास में एक असाधारण वर्ष है। राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री मोदीजी ने वुहान में ऐतिहासिक अनौपचारिक शिखर बैठक की। अभी हमारे द्विपक्षीय संबंध तेजी से पटरी पर हैं। दो-तरफा व्यापार की मात्रा 95.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गई। चीनी कंपनियों ने भारत में 2 लाख से अधिक नौकरियों का सृजन किया है।

 

Print Friendly, PDF & Email