दक्षिण कोरिया : अपदस्थ राष्ट्रपति के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट की मांग

सियोल, 27 मार्च| दक्षिण कोरिया के अभियोजकों ने सोमवार को कहा कि वे देश की अपदस्थ राष्ट्रपति पार्क ग्युन हे के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने की मांग कर रहे हैं। पार्क को भ्रष्टाचार के मामले में राष्ट्रपति पद से हटाया गया है।

समाचार एजेंसी योनहाप के मुताबिक, पार्क घूसखोरी, सत्ता के दुरुपयोग, उगाही और अपनी दोस्त चोई सून सिल के साथ खुफिया सरकारी सूचनाओं को लीक करने के आरोपों का सामना कर रही हैं।

अभियोजन पक्ष ने बयान जारी कर कहा, “अभी तक बहुत सारे साक्ष्य जुटाए गए हैं लेकिन जैसा कि संदिग्ध अधिकतर आपराधिक आरोपों को नकार चुकी हैं, तो ऐसे में संभावना है कि वह साक्ष्यों को नष्ट कर सकती हैं।”

बयान के मुताबिक, “इस लिहाज से उनके खिलाफ वारंट जारी करने की मांग नहीं करना अनुचित होगा क्योंकि उनकी सहयोगी चोई सून सिल और उनके निर्देशों का पालने करने वाले सरकारी अधिकारियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।”

इस मामले में सैमसंग समूह के उपाध्यक्ष ली जे योंग को भी गिरफ्तार किया जा चुका है। उन पर चोई को (और चोई के जरिए पार्क को) रिश्वत देने और इसके बदले कारोबारी हित साधने का आरोप लगा है।

अभियोजकों ने कहा कि पार्क के खिलाफ लगाए गए आरोप बहुत ही गंभीर हैं। उन्होंने खुफिया सरकारी सूचनाओं को लीक करने और अपने दोस्त को कारोबारियों से उगाही करने देने की छूट देकर अपने ओहदे और अधिकारों का दुरुपयोग किया है।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह संवैधानिक अदालत द्वारा उन्हें पद से बर्खास्त करने के फैसले को बरकार रखने के बाद उनसे लंबे समय तक पूछताछ की गई थी।

यदि सियोल सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट पार्क के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर देती है तो पार्क गिरफ्तार होने वाली देश की तीसरी राष्ट्रपति होंगी। इससे पहले रोह ते-वु और चुन डो-हवान को भी गिरफ्तार किया जा चुका है।

देश में नौ मई को राष्ट्रपति चुनाव होंगे।      –आईएएनएस

 

Print Friendly, PDF & Email