Pradeep Sardana

जाने माने पत्रकार और फिल्म समीक्षक प्रदीप सरदाना का अनूठा रिकॉर्ड

Pradeep Sardanaवरिष्ठ पत्रकार, फिल्म समीक्षक और टीवी पेनलिस्ट प्रदीप सरदाना ने चार दिनों में सर्वाधिक समय तक राष्ट्रीय न्यूज़ चैनल्स पर लाइव रहकर प्रतिष्ठित ‘इंडिया बुक ऑफ़ रिकार्ड्स’ में अपना रिकॉर्ड दर्ज कराया है।

अपनी सटीक टिप्पणियों के लिए विख्यात  सरदाना ने यह रिकॉर्ड चार दिन में 52 घंटों तक 6 राष्ट्रीय न्यूज़ चैनल्स – एबीपी न्यूज़, आज तक, ज़ी न्यूज़, इंडिया न्यूज़, ज़ी हिंदुस्तान और न्यूज़ 24 पर लाइव रह कर बनाया। जब वह 25 से 28 फरवरी 2018 तक लोकप्रिय अभिनेत्री श्रीदेवी पर अपने विचार लगातार प्रस्तुत करते रहे।

वह इन चार दिंनों में सुबह 7 बजे से रात 12 बजे तक लगातार, लगभग 13 घंटे प्रतिदिन की औसत से न्यूज़ चैनलों पर लाइव उपस्थित रहे।

उनका यह अनूठा रिकॉर्ड वरिष्ठ पत्रकार, फिल्म समीक्षक और टीवी पेनलिस्ट के नाते इंडिया बुक ऑफ़ रिकार्ड्स के 2019 संस्करण में दर्ज हुआ है।

इन चैनल के अलावा सरदाना ज़ी बिज़नेस और इंडिया टीवी पर भी उपस्थित रह कर श्रीदेवी के निधन पर अपने विचार प्रस्तुत किये।

इन दिनों में उन्होंने श्रीदेवी के अभिनय और शख्सियत पर सिर्फ अपने विचार और विश्लेषण ही प्रस्तुत नहीं किया,  बल्कि ‘भारतीय सिनेमा की चांदनी’ के साथ अपनी मुलाकातों की बहुत सी यादें भी साझा कीं।

सरदाना के ये कार्यक्रम न सिर्फ सबसे ज्यादा देखे गए, बल्कि दर्शकों द्वारा बेहद सराहे भी गए।

मात्र 13 वर्ष की आयु से पत्रकारिता का अपना सफ़र शुरू करने वाले दिल्ली निवासी पत्रकार प्रदीप सरदाना 44 वर्षों से पत्रकारिता में हैं।

इस दौरान वह देश के कई प्रतिष्ठित प्रकाशन समूह जैसे टाइम्स ऑफ़ इंडिया, हिन्दुस्तान टाइम्स,इंडिया टुडे के साथ एक लम्बे समय तक कार्य करते रहे।, साथ ही दैनिक जागरण] राजस्थान पत्रिका,  दैनिक भास्कर, आज और अमर उजाला जैसे कई प्रतिष्ठित समाचार पत्रों से भी जुड़े रहे।

17 वर्ष की आयु में समाचार पत्र ‘पुनर्वास’ की शुरुआत करके,  वह देश के सबसे कम उम्र के सम्पादक भी हैंण् इसके साथ ही टीवी पर नियमित पत्रकारिता की शुरुआत करने के लिए भी श्री सरदाना जाने जाते हैं।

वर्तमान में श्री सरदाना प्रिंटए इलेक्ट्रॉनिक और ऑनलाइन मीडिया के साथ कार्यरत हैं और नवभारत टाइम्स, दैनिक ट्रिब्यून, लोकमत समाचार, हरि भूमि, दैनिक भास्कर और पाञ्चजन्य आदि के लिए लिखते हैं।

साथ ही सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय (भारत सरकार)की पत्रिका,. आजकल, योजना और बाल भारती के साथ ‘पत्र सूचना कार्यालय’ के लिए भी लिखते रहे हैं। एबीपी न्यूज़ ऑनलाइन और बीबीसी न्यूज़ ऑनलाइन के लिए भी नियमित रूप से लिखते हैं और सभी प्रमुख राष्ट्रीय न्यूज़ चैनल्स के साथ सरदाना डिबेट पेनलिस्ट और सिनेमा विशेषज्ञ के रूप में जुड़े हैं। साथ ही आकाशवाणी की विदेश प्रसारण सेवाए एफएम गोल्ड और एफएम रेनबो के साथ भी कार्यक्रम करते रहते हैं।

जाने माने स्तंभकार  सरदाना पिछले 26 वर्ष से ‘पुनर्वास’ साप्ताहिक के सम्पादक भी हैं।

 

Print Friendly, PDF & Email