भ्रष्टाचार के विवादों को पीछे छोड़ चुकी हूं : अंजु बॉबी जॉर्ज

नई दिल्ली, 17 जुलाई | केरल के खेल परिषद के अध्यक्ष पद से भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण इस्तीफा दे चुकीं भारत की दिग्गज एथलीट अंजु बॉबी जॉर्ज ने कहा है कि खेल परिषद में जो भी हुआ वह उससे बाहर आ चुकी हैं।

आईएएनएस ने एक साक्षात्कार में जब अंजू से पूछा कि कहीं इस्तीफा देकर उन्होंने ऐसा चाहने वालों के लिए रास्ता साफ तो नहीं कर दिया? इस पर उन्होंने कहा, “मैं इस बारे में बार-बार बात नहीं करना चाहती, क्योंकि यह अध्याय मेरे लिए समाप्त हो चुका है और मैं आगे बढ़ चुकी हूं।”

केरल खेल परिषद के अध्यक्ष पद पर अंजु केवल छह माह तक ही कायम रह सकीं। राज्य के खेल मंत्री ई.पी.जयराजन के द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों से दिग्गज एथलीट ने इस्तीफा दे दिया।

राजधानी दिल्ली में रविवार को भारत के पहले मल्टी-सिटी मैराथन ‘ग्रेट इंडिया रन’ के आयोजन के दौरान अंजू ने यह बात कही।

अध्यक्ष पद पर अपने कार्यकाल के दौरान विकास के बारे में पूछे जाने पर अंजु ने कहा, “हमने काफी कुछ किया है। हमने एक नैतिकता आयोग की शुरुआत की है, जो सभी गतिविधियों, आरोपों और परेशानियों की जांच करेगी। हमने अपने एथलीटों, बच्चों और कोचों के लिए काफी कुछ किया है। मेरे पास छह माह ही थी।”

पेरिस में 2003 में आयोजित हुए विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में लंबी कूद प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीत कर इतिहास रचने वाली अंजु ने एक बयान में कहा था, “मैं खेल परिषद में केवल छह माह के कार्यकाल के जांच पर प्रश्न उठाना चाहती हूं। इसकी बजाए हमें पिछले एक दशक में परिषद में हुई संपूर्ण गतिविधियों की जांच करनी चाहिए।”

इस बयान के पीछे के कारण के बारे में पूछे जाने पर स्पष्ट जवाब न देते हुए अंजु ने कहा, “भ्रष्टाचार से संबंधित कई गतिविधियां इस दौरान परिषद में हुई हैं और इसकी जांच होनी चाहिए। इस प्रकार की चीजों को रोका जाना चाहिए।”

केरल खेल परिषद के पूर्व अध्यक्ष टी.पी. दासन द्वारा भी अंजु के कार्यकाल के दौरान भ्रष्टाचार होने के आरोप लगाए जाने के बारे में दिग्गज एथलीट ने कहा, “जैसे कि मैंने कहा कि पिछले 10 दशक के कार्यकाल की जांच होनी चाहिए। अगर ऐसा होता है, तो सबकुछ बाहर निकल कर आएगा। अब तो इंतजार करना और देखना है।”

भारत की दिग्गज धावर अश्विनी नाचप्पा ने कहा था कि उन्हें इस बार रियो ओलम्पिक-2016 में एथलेटिक्स में पदक की उम्मीद नहीं है। इस बारे में अंजू से पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि यह सच है, क्योंकि हम अभी इस लक्ष्य से काफी दूर हैं। हम 2024 तक पदक की उम्मीद कर सकते हैं।”

ब्राजील के रियो डी जेनेरियो में पांच से 21 अगस्त तक आयोजित होने वाले ओलम्पिक खेलों में 100 मीटर रेस के लिए क्वालीफाई करने वाली महिला एथलीट दुती चंद के बारे में अंजु ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि दुती फाइनल में जरूर पहुंचेंगी।-मोनिका चौहान

 

Print Friendly, PDF & Email